Youth to decide UP’s election agenda

प्रेस विज्ञप्ति
10 दिसंबर 2021
युवा तय करेंगे यूपी की सत्ता : अनुपम 
 
अनुपम के नेतृत्व में प्रदेशव्यापी यात्रा और 12 जनवरी के बाद ‘युवा महापंचायतों’ का होगा आयोजन : गोविंद मिश्रा
 
‘युवाओं की यूपी’ कैम्पेन के जरिए 22 सवालों पर होगा सरकार का हिसाब : रजत यादव
 
यूपी के सभी जिलों में यात्रा कर ‘पढ़ाई कमाई दवाई’ को बनाएंगे चुनावी नारा : प्रशांत कमल 
 
लखनऊ: बेरोज़गारी को राष्ट्रीय बहस बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले ‘युवा हल्ला बोल’ के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुपम ने कहा है कि प्रदेश के विधानसभा चुनाव में बेरोज़गर युवा ही अब यूपी की सत्ता तय करेंगे। मौका था राजधानी लखनऊ में ‘युवाओं की यूपी’ कैम्पेन की घोषणा का जहाँ अनुपम के साथ ‘युवा हल्ला बोल’ के कार्यकारी अध्यक्ष गोविंद मिश्रा और प्रदेश प्रभारी रजत यादव भी उपस्थित रहे। मुहिम के अंतर्गत नेताओं ने ‘पढ़ाई कमाई दवाई’ जैसे मुद्दों पर 2022 के लिए 22 सवालों का एक दस्तावेज जारी किया। साथ ही इन सवालों को आम जनता तक पहुँचाने के लिए आगामी रूपरेखा भी सार्वजनिक किया। पहले चरण में सभी जिलों की यात्रा की जाएगी और दूसरे चरण में युवा महापंचायतों का आयोजन होगा।
प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए अनुपम ने कहा कि यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने प्रदेश के युवाओं से रोज़गार के नाम पर सिर्फ छलावा किया है। बड़े बड़े वादे कर सत्ता में आयी सरकार आज नौकरियों में कटौती, भर्तियों में भ्रष्टाचार, परीक्षा में पेपर लीक और बहाली में लेटलतीफी का पर्याय बन गयी है। इससे भी दुखद बात है कि रोज़गार मांग रहे युवाओं को लाठी डंडों से बेरहमी से पीटा जाना बिल्कुल आम बात हो गयी है। आए दिन राजधानी लखनऊ से पुलिसिया बर्बरता की तस्वीरें आती रहती हैं। एक तरफ तो बेरोज़गर युवा सड़कों पर लाठियां खा रहे हैं, दूसरी तरफ सरकार झूठा प्रचार करने में आम जनता का पैसा फूंक रही है।
‘युवा हल्ला बोल’ के कार्यकारी अध्यक्ष गोविंद मिश्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार युवाओं के मुद्दों पर फेल हो चुकी है और अब झूठा प्रचार करके गुमराह करने की कोशिश कर रही है। शिक्षित बेरोज़गर युवाओं ने हर तरह की कोशिश कर ली। गुहार लगाया, शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन किया, लाठी डंडे खाए, बदनामी झेली लेकिन सरकार में युवाओं के वाजिब मुद्दों को लेकर कोई संवेदना नहीं दिखी। इसलिए अब युवाओं ने ठाना है कि चुनावी चोट देकर ही सरकार को होश में लाया जा सकता है। इसी क्रम में 2022 के लिए 22 सवाल के साथ हमने पूछा है कि क्यों हमारी यूपी आज बेहाल है।
प्रदेश प्रभारी और ‘युवा हल्ला बोल’ महासचिव रजत यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में युवाओं का एजेंडा सेट करने के लिए अनुपम के नेतृत्व में सभी जिलों की यात्रा की जाएगी। पहले चरण में प्रदेशव्यापी यात्रा के बाद 12 जनवरी से युवा महापंचायतों का आयोजन भी होगा। रजत ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि प्रदेश के युवा एकजुट होकर चुनाव में युवाओं का एजेंडा सेट करें वरना संवेदनहीन सरकारें हमारे भविष्य से खिलवाड़ करती रहेंगी।
प्रेस वार्ता के दौरान ‘युवा हल्ला बोल’ के राष्ट्रीय महासचिव प्रशांत कमल, सचिव अमित प्रकाश, उत्सव यादव, अशफाक खान समेत लखनऊ टीम से दिव्येन्दु मणि, मुलायम यादव और सचिन कुमार भी उपस्थित रहे।
Yuvao ki UP document attached.
——-
Press Release
10 Dec 2021
Youth to decide UP’s election agenda: Anupam
State-wide yatra and ‘Yuva Mahapanchayats’ after January 12 led by Anupam: Govind Mishra
Yuvaon Ki UP’ campaign’s 22 questions will hold the government accountable: Rajat Yadav
Our state-wide yatra and campaign will make ‘Padhai Kamai Dawai’ the election slogan: Prashant Kamal
Anupam, National President of ‘Yuva Halla Bol’, the movement that has been instrumental in making unemployment a national debate, has declared that it will be the unemployed youth that will determine the results in the UP elections. He said this at the event announcing the ‘Yuvaon Ki UP’ campaign in Lucknow. Govind Mishra, the working president of ‘Yuva Halla Bol’ Prashant kamal, the National General Secretary and Rajat Yadav, the state in-charge were also present on the occasion. The leaders released a document with 22 questions on the issues of Padhai, Kamai and Dawai for 2022. They also shared their upcoming roadmap about how they would take these to the people of the state. In the first phase, the team will visit all the districts in the state and in the second phase, it will organize Yuva Mahapanchayats.
Addressing the press, Anupam said that the Yogi Adityanath government of UP has only cheated the youth in the name of employment. The government, which came to power with big promises, has now become known for job cuts, corruption, delays in recruitment and paper leaks in examinations. To add insult to injury, the government has resorted to beating up the youth mercilessly when they seek employment. We come across images of police brutality from Lucknow every day. It is ironic how while the unemployed youth endures lathicharge on the streets, the government continues to make false claims using public money.
Govind Mishra, the working president of ‘Yuva Halla Bol’ said that the BJP government of Uttar Pradesh has completely failed to address the issues of the state’s youth and is just trying to mislead with false propaganda. The educated unemployed youth has tried everything to seek government’s attention. Besides appeals and peaceful dharnas, the youth has also faced slander and endured beating, but the government has shown no sympathy for their legitimate issues. The youth now has decided that electoral injuries can only bring this government to its senses. Our 22 questions for 2022 will illustrate why UP is in a bad state today.
State in-charge and general secretary of ‘Yuva Halla Bol’, Rajat Yadav said that under Anupam’s leadership, the team will be travelling to all districts to establish the agenda of youth. Yuva Mahapanchayats will be organized from January 12 after a state-wide yatra in the first phase. Rajat said that the time has come for the youth of the state to unite and set the agenda in the elections, otherwise apathetic governments would continue to play with our future.
Secretary Amit Prakash, Utsav Yadav, Ashfaq Khan were present at the press conference. They were accompanied by Divyendu Mani, Mulayam Yadav and Sachin Kumar from the Lucknow team.

Leave a Reply

Your email address will not be published.